मेडिटेशन या ध्यान क्या है, कैसे करें? | Meditation in Hindi

Meditation in Hindi – मेडिटेशन कैसे करें?, मेडिटेशन के लाभ (Meditation Benefits in Hindi), मेडिटेशन की शक्ति, Meditation Scientific Results in Hindi, सावधानी, मेडिटेशन कितनी देर और कब?, Meditation Course in Hindi, Best Books on Meditation

आजकल की तनाव भरी जीवनशैली में मेडिटेशन करना बहुत जरूरी हो गया है लेकिन लोगों को मेडिटेशन से जुडी जानकारी बहुत कम है जिस वजह से लोग ठीक से मेडिटेशन का लाभ नहीं उठा पाते। इसलिए आज की इस पोस्ट में हम आपको मेडिटेशन (Meditation in Hindi) से जुडी पूरी जानकारी देने जा रहें हैं।

Meditation in Hindi

मेडिटेशन क्या है? (Meditation in Hindi)

मेडिटेशन का मतलब कोई अलग व्यक्ति, कोई नया इंसान या बेहतर इंसान बनने से नहीं है बल्कि मेडिटेशन का मतलब अपनी Awareness यानी जागरूकता को बढ़ा कर चीजों को बेहतर तरह से समझने से है। मेडिटेशन में आप अपने विचारों और फीलिंग को देखना या Observ करना शुरू करते हैं वो भी बिना किसी जजमेंट के यानी अच्छे या बुरे की फीलिंग के बिना और ऐसा करने से आप इन विचारों और फीलिंग्स को बेहतर तरीके से समझने लगते हैं।

यह भी पढ़ें – अजीनोमोटो के नुकसान

मेडिटेशन कैसे करें?

मेडिटेशन करना ना तो बहुत आसान है और ना भी बहुत मुश्किल, जी हाँ बस आपको मेडिटेशन करने से सही तरीका पता होना चाहिए। नीचे मेडिटेशन यानी ध्यान करने के स्टेप्स बताए जा रहे हैं। मेडिटेशन करते समय एक शांत जगह पर बैठ जाए और कोशिश करें की आप रोजाना एक ही समय पर मेडिटेशन करें, हो सके तो इसके लिए आप अपने फ़ोन पर रिमाइंडर भी लगा सकते हैं।

  1. बैठ जाएँ – बैठने के लिए एक ऐसी जगह खोजें जो आपको शांत लगे।
  2. एक समय सीमा निर्धारित करें – अगर अभी आप शुरुआत कर रहे हैं, तो कम समय चुनना आपको मदद कर सकता है, जैसे शुरुआत में 5 या 10 मिनट का ही समय दें।
  3. अपने शरीर पर ध्यान दें – आप कुर्सी पर बैठ कर अपने पाँव फर्श पर रख सकते हैं, आप क्रॉस लेग में बैठ सकते हैं, आप जमीन पर पलथी मार कर बैठ सकते हैं यानी कहने का मतलब है आप कैसे भी बैठ सकते हैं बस बैठने का तरीका आपके लिए आरामदायक होना चाहिए ताकि आप कुछ देर एक ही अवस्था में बैठ सकें।
  4. अपनी सांसों को महसूस करो – सबसे पहले अपनी आँखें बंद कर लें, फिर अपनी आने वाली और जाने वाली सांसों को महसूस करें, आप आने वाली सांस की ठंडक और जाने वाली साँस की गरमाहट भी महसूस कर सकते हैं।
  5. आपका दिमाग भटकने पर ध्यान दें – समय-समय पर आपका ध्यान सांसों को छोड़कर कुछ और ही सोचने लगेगा, लेकिन कोई बात नहीं यह स्वभाविक है, जैसे ही आपको इस बात का पता चले कि आपका दिमाग भटक गया है बस अपना ध्यान फिर से सांसों पर ले आएं।
  6. विचारों को जज न करें – दिमाग के भटकने पर आपके मन में जो विचार आएं हैं उनको बस देख लें बिना किसी जजमेंट के यानी अच्छे या बुरे की फीलिंग के बिना। बस अपनी सांसों पर फिर से ध्यान लें आएं।
  7. अपने अंदरूनी शरीर पर ध्यान दें – सांसों में ध्यान लगाते हुए अगर अपने शरीर में कोई संवेदना होती है तो धीरे से उस पर ध्यान दें जैसे – खुजली, ठंडक, गरमाहट और बस उसे Observ करें उसे रोकने की कोशिश ना करें। आप देखेंगे की आपके शरीर में होने वाली संवेदना अपने आप समाप्त हो जाएगी। इसके बाद दुबारा से अपना ध्यान साँसों पर लगा लें.
  8. मेडिटेशन समाप्त करें – कुछ देर मेडिटेशन करने के बाद, अपनी आखें खोल लें, अब आप उठ सकते हैं, शुरुवात में केवल 5 या 10 मिनट का समय भी पर्याप्त हैं।

बस इतना ही करना है, आखें बंद कर बैठ जाएँ, सांसों पर ध्यान दें, कुछ देर बाद शरीर में होने वाली संवेदनाओं को सिर्फ देखें और इसका अभ्यास करते रखें।

यह भी पढ़ें – मेटावर्स क्या है?

मेडिटेशन के लाभ (Meditation Benefits in Hindi)

मेडिटेशन आपको आपके दैनिक कार्यों को करते समय और अधिक जागरूक रखता है। यह आपको सिखाता है कि आपके जीवन में आने वाले उतार और चढ़ाव पर किस तरह प्रतक्रिया दें।

वैसे तो मेडिटेशन बहुत आसान लगता है लेकिन इसके लिए अनुशासन की जरूरत होती है। मेडिटेशन करते समय आपको दुनिया से हटकर अपने आप में ध्यान देना होता है। मेडिटेशन से लाभ लेने के लिए आपको रोजाना इसका अभ्यास करना होता है और जब आप अनुशासन में रहकर मेडिटेशन करते हैं तब आपको मेडिटेशन की शक्ति का लाभ भी मिलता है।

मेडिटेशन से होने वाले फायदे कुछ इस तरह हैं-

  • किसी भी काम में जागरूकता बढ़ना
  • अधिक फोकस के साथ काम करना
  • मेडिटेशन रक्त चाप को कम करता है
  • आपकी रोक प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है
  • आप खुश रहने लगते हैं

बहुत सी रिसर्च में साफ़ हो चूका है कि ध्यान यानी मेडिटेशन आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बना सकता है। एक रिसर्च के अनुसार मेडिटेशन करने से आपके तंत्रिका तंत्र को भी फायदा होता है जिससे आपकी हृदय गति धीमी हो जाती है, रक्तचाप कम हो जाता है, श्वास धीमी हो जाती है और मांसपेशियों को आराम मिलता है।

मेडिटेशन के वैज्ञानिक परिणाम (Meditation Scientific Results in Hindi)

मेडिटेशन पर होने वाली रिसर्च से कुछ वैज्ञानिक परिणाम सामने आये हैं, चलिए इनके बारे में जानते हैं-

  1. तनाव कम करता है
  2. इमोशनल हेल्थ बढ़ता है
  3. जागरूकता बढ़ाता है
  4. उम्र बढ़ने से होने वाले मैमोरी लॉस को कम करता है
  5. आप अधिक दयालु यानी Kind होने लगते हैं
  6. किसी भी लत को खत्म करने में आपकी मदद करता है
  7. आपकी नींद की गुणवत्ता को बढ़ाता है
  8. दर्द कम करने में मदद करता है

मेडिटेशन से जुड़े कुछ सवाल और उनके जवाब

मेडिटेशन करते समय क्या-क्या सावधानी रखनी चाहिए?

1 – मेडिटेशन करने के बाद उठते समय आपको थोड़ा ध्यान रखना चाहिए, क्योंकि मेडिटेशन करने से रक्तचाप कम होता है जिससे अचानक उठने पर आपको पर समस्या हो सकती है हालाँकि ऐसा बहुत कम देखने को मिलता है।

2 – मेडिटेशन के दौरान आपको कुछ ऐसे अनुभव हो सकते हैं जो आपने पहले कभी महसूस ना किए हो, लेकिन ये स्वाभाविक है इसलिए आपको इन्हें बिना जज किए सिर्फ देखना है।

3 – एक रात में चमत्कार की उम्मीद ना करें, मेडिटेशन के लाभ दिखने में कुछ समय लगता है।

4 -मेडिटेशन में बैठते समय, आरामदायक पोजीशन में बैठे, ज्यादा देर तक गलत पोजीशन में बैठे रहने से दर्द की समस्या हो सकती है।

मेडिटेशन कितनी देर करना चाहिए?

हालंकि इसका कोई सटीक जवाब नहीं है लेकिन वैज्ञानिक रिसर्च के अनुसार मेडिटेशन का लाभ लेने के लिए आपको हर रोज कम से कम 10 मिनट जरूर देने चाहिए, लेकिन शुरुवात में आप 5 मिनट से भी शुरू कर सकते हैं।

मेडिटेशन कब करना चाहिए?

सुबह के समय आपका मन शांत और फ्रेश होता है इसलिए सुबह का समय मेडिटेशन के लिए सबसे बेहतर होता है।

Meditation Course in Hindi

अगर आप मेडिटेशन कोर्स सर्च कर रहे हैं तो मैं आपको विपासना मेडिटेशन करने की सलाह दूंगा, जो मैं खुद भी कर चूका हूँ, यहाँ आपको 10 दिन तक बिना बोले रहना पड़ता है। यह कोर्स बिल्कुल फ्री होता है।

Best Books on Meditation

एंडी पुड्डीकोम्बे द्वारा लिखी “The Headspace Guide to… Mindfulness & Meditation” मेडिटेशन के लिए बेस्ट बुक है। इस बुक पर आधारित डॉक्यूमेंट्री नेटफ्लिक्स में भी उपलब्ध है।

उम्मीद करते हैं मेडिटेशन (Meditation in Hindi) से संबंधित इस पोस्ट में आपको मेडिटेशन से जुडी लगभग सभी जानकारी मिल गयी होगी। अगर जानकरी पसंद आयी तो पोस्ट को अपने सोशल मीडिया अकाउंट में भी जरूर शेयर करें, धन्यवाद।

यह भी पढ़ें –

मैं उत्तराखंड के किच्छा का रहने वाला हूँ। मुझे लिखना पसंद है और इसीलिए मैंने अपना ये ब्लॉग शुरू किया है जहाँ मैं हमेशा कुछ ऐसा शेयर करने की कोशिस करता हूँ जिससे आप कुछ नया सीख सकें।

2 thoughts on “मेडिटेशन या ध्यान क्या है, कैसे करें? | Meditation in Hindi”

  1. बहुत अच्छी सीख मिली जानकारी बहुत महत्वपूर्ण है खासकर उन लोगों के लिए जो ज्यादा परेशान रहते हैं तनावपूर्ण जिंदगी जीते हैं धन्यवाद

    Reply

Leave a Comment