Chanakya Niti Hindi | इन चार के साथ रहने वाले व्यक्ति को हमेशा रहती है समस्याएँ

Chanakya Niti हिंदी में चाणक्य नीति प्रथम अध्याय श्लोक पांचवा दुष्ट पत्नी, झूठा मित्र, बदमाश नौकर और सर्प के साथ निवास साक्षात् मृत्यु के समान है. आचार्य चाणक्य इस नीति में कहते हैं कि यह 4 चीजें किसी भी व्यक्ति के लिए जीती जागती मृत्यु के समान है जिसमें एक दुष्ट पत्नी, दुष्ट मित्र, बदमाश … Read more

Chanakya Niti Hindi | मुसीबत के समय में क्या करें?

Chanakya Niti हिंदी में Chanakya Niti प्रथम अध्याय श्लोक छठवा व्यक्ति को आने वाली मुसीबतों से निपटने के लिए धन संचय करना चाहिए, उसे धन संपदा त्यागकर भी पत्नी की सुरक्षा करनी चाहिए लेकिन यदि आत्मा की सुरक्षा की बात आती है तो उसे धन और पत्नी दोनों को बेकार समझना चाहिए. चाणक्य इस नीति … Read more

Chanakya Niti Hindi | समझदार व्यक्ति इन 4 स्थानों पर नहीं रहतें

Chanakya Niti हिंदी में Chanakya Niti प्रथम अध्याय श्लोक आठवां उस जगह निवास ना करें जहां आपकी कोई इज्जत नहीं हो, जहां आप रोजगार नहीं पा सकते, जहां आपका कोई मित्र नहीं और जहां आप कोई विद्या अर्जित नहीं कर सकते। दोस्तों इस आठवीं नीति में चाणक्य कहते हैं कि आपको ऐसी जगह पर नहीं … Read more

Chanakya Niti Hindi | ऐसी जगह पर एक दिन भी निवास ना करें, जहां यह पांच चीज न हो

Chanakya Niti हिंदी में Chanakya Niti प्रथम अध्याय श्लोक नौ ऐसी जगह पर एक दिन भी निवास ना करें जहां यह पांच चीज न हो एक धनवान व्यक्ति, एक ब्राह्मण जो वैदिक शास्त्रों में निपुण हो, एक राजा, एक नदी और एक चिकित्सक। दोस्तों आचार्य चाणक्य नीति में कहते हैं कि उन स्थानों पर एक … Read more

Chanakya Niti Hindi | बुद्धिमान व्यक्ति को ऐसी जगह में कभी नहीं जाना चाहिए

Chanakya Niti हिंदी में Chanakya Niti प्रथम अध्याय श्लोक 10 बुद्धिमान व्यक्ति को ऐसे देश में कभी नहीं जाना चाहिए जहां रोजगार कमाने का कोई माध्यम ना हो, जहां लोगों को किसी बात का भय ना हो, जहां लोगों को किसी बात की लज्जा ना हो, जहां लोग बुद्धिमान ना हो और जहां लोगों की … Read more

Chanakya Niti Hindi | इंसान को परखना सीखें कौन अच्छा कौन बुरा?

Chanakya Niti हिंदी में Chanakya Niti, प्रथम अध्याय श्लोक 11 नौकर की परीक्षा तब करें जब वह कर्तव्य का पालन ना कर रहा हो, रिश्तेदार की परीक्षा तब करें जब आप मुसीबत में घिरे हो, मित्र की परीक्षा विपरीत परिस्थितियों में करें और जब आपका वक्त अच्छा ना चल रहा हो तब पत्नी की परीक्षा … Read more

Chanakya Niti Hindi | अच्छा मित्र कौन है? जानिए क्या कहते है चाणक्य

Chanakya Niti हिंदी में Chanakya Niti, प्रथम अध्याय श्लोक बारह अच्छा मित्र वही है जो हमें निम्नलिखित परिस्थितियों में नहीं त्यागे- आवश्यकता पड़ने पर, कोई दुर्घटना पड़ने पर, जब अकाल पड़ा हो, जब युद्ध चल रहा हो, जब एक राजा के दरबार में जाना पड़े और जब श्मशान घाट पर जाना पड़े दोस्तों, आचार्य चाणक्य … Read more

Chanakya Niti Hindi | इसे बचाना सीखो वरना जिंदगी बेकार हो जाएगी

Chanakya Niti हिंदी में Chanakya Niti प्रथम अध्याय श्लोक सातवां भविष्य में आने वाली मुसीबतों के लिए धन एकत्रित करें, ऐसा ना सोचे कि धनवान व्यक्ति को मुसीबत कैसी? जब धन साथ छोड़ता है तो संगठित घन भी तेजी से घटने लगता है. दोस्तों आचार्य चाणक्य इस नीति में कहते हैं कि आपातकाल के लिए … Read more